व्यक्ति के हाथ में कई रेखाएं होती हैं। हथेली की रेखाओं से व्यक्ति के भविष्य और स्वभाव का पता चलता है। हस्तरेखा शास्त्र के अनुसार, हथेली की रेखाओं के अलावा शरीर के अलग-अलग अंगों पर बने तिलों का भी विशेष महत्व होता है। तिल से भी व्यक्ति के भाग्य, तरक्की और स्वभाव की जानकारी मिलती है। जानिए हथेली पर अलग-अलग जगहों पर मौजूद तिल के शुभ और अशुभ फल के बारे में-

1. हस्तरेखा शास्त्र के अनुसार, सूर्य पर्वत यानी अनामिका अंगुली के नीचे जगह पर तिल होने का अर्थ है कि सरकारी मामलों या सरकारी नौकरी में कष्ट हो सकता है।

2. हस्तरेखा शास्त्र के अनुसार, हथेली पर गुरू पर्वत के ऊपर तिल का अर्थ होता है कि व्यक्ति के जीवन में धन की कमी नहीं होगी। ऐसे लोगों का जीवन सुख-सुविधाओं से भरा होता है।

3. शनि पर्वत के ऊपर बना तिल व्यक्ति के मान-सम्मान और सुख संपत्ति का संकेत देता है। माना जाता है कि शनि पर्वत के ऊपर बना तिल व्यक्ति को सुखी और धनवान रहने का इशारा देता है।

4. जिन व्यक्तियों की सबसे छोटी अंगुली के ऊपर तिल का निशान होता है। हस्तरेखा शास्त्र के अनुसार, ऐसे लोग को पैतृक संपत्ति मिलने का योग रहता है।

5. माना जाता है कि अनामिका अंगुली पर तिल होता है वह सरकारी क्षेत्र में उपलब्धि और मान-सम्मान प्राप्त करते हैं।

6. जिन लोगों के अंगूठे पर तिल का निशान होता है। ऐसा माना जाता है कि वह न्याय का साथ देने वाले होते हैं और उन्हें वैवाहिक जीवन में कष्टों का सामना करना पड़ता है।

7. हस्तरेखा शास्त्र के अनुसार, अनामिका अंगुली के नीचे मौजूद बुध पर्वत पर बना तिल व्यक्ति को नुकसान और कष्ट पहुंचाता है।