नई दिल्ली,दक्षिण अफ्रीका में चल रहे अंडर-19 वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल में भारतीय टीम ने पाकिस्तान को एकतरफा मुकाबले में दस विकेट से हराया। जीत के साथ मौजूदा चैंपियन भारत रिकॉर्ड सातवीं बार फाइनल में पहुंचा। यशस्वी जायसवाल ने छक्का जड़कर पूरा किया अपना पहला शतक, दिव्यांश ने भी जड़ा नाबाद अर्धशतक। दोनों ने मिलकर 176 रनों की रिकॉर्ड साझेदारी की।

पहले सेमीफाइनल में भारतीय गेंदबाजों के आगे पाकिस्तान ने घुटने टेक दिए। 43.1 ओवर में पूरी पाक टीम 172 रन पर सिमट गई। सलामी बल्लेबाज हैदर अली (56) और कप्तान रोहेल (62) ने टीम को संभालने की कोशिश की, लेकिन लगातार अंतराल में विकेट गिरते ही रहे।

भारतीय टीम ने मंगलवार को अंडर-19 वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल में पाकिस्तान को एकतरफा मुकाबले में हरा दिया। यशस्वी की शतकीय पारी की मदद से भारतीय टीम पाकिस्तान पर दस विकेट की रिकॉर्ड जीत के साथ ही तीसरी और कुल सातवीं बार अंडर-19 वर्ल्ड कप के फाइनल में पहुंचने में कामयाब रही।

मैच में पाकिस्तान ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए 43.1 ओवर में 172 रन ही बना पाई और ऑलआउट हो गई। भारत की तरफ से सुशांत मिश्रा ने सर्वाधिक तीन और कार्तिक-बिश्नोई ने 2-2 विकेट चटकाए। इसके बाद लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारतीय टीम ने 35.2 ओवर में ही बिना विकेट गंवाए लक्ष्य हासिल कर लिया।

भारत की तरफ से सलामी बल्लेबाजी यशस्वी जायसवाल ने नाबाद 105 और दिव्यांश सक्सेना ने नाबाद 59 रन बनाए और 176 रनों की रिकॉर्ड साझेदारी कर भारत को जीत दिला गए।

भारत को सेमीफाइनल में जीत के लिए पांच रनों की जरुरत थी और उसी वक्त 99 रन पर बल्लेबाजी कर रहे यशस्वी जायसवाल ने आमिर की गेंद पर छक्का जड़कर टूर्नामेंट का अपना पहला शतक जड़ दिया। इस छक्के की साथ ही भारत ने भी दस विकेट के साथ पाकिस्तान पर बड़ी जीत दर्ज की और रिकॉर्ड सातवीं बार अंडर-19 वर्ल्ड कप के फाइनल में पहुंचने में भी सफल रही।

भारतीय टीम ने यशस्वी के नाबाद शतक और दिव्यांश के नाबाद अर्धशतकों की मदद से अंडर-19 वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल में पाकिस्तान को करारी शिकस्त दे दी है। पाकिस्तान के 173 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी टीम इंडिया ने रिकॉर्ड साझेदारी करते हुए दस विकेट से जीत दर्ज की। इसी के साथ भारत रिकॉर्ड सातवीं बार युवाओं के वर्ल्ड कप फाइनल में पहुंचने में सफल रही।