नई दिल्ली । अंतरराष्ट्रीय ओलिंपिक समिति (आईओसी) द्वारा टोक्यो ओलंपिक खेल स्थगित करने के बाद से उन खिलाड़ियों के भविष्य पर सवाल उठ रहे थे, जो इन खेलों के लिए क्वालिफाई कर चुके हैं। इस मुद्दे पर आईओसी ने बताया कि जो खिलाड़ी टोक्यो ओलिंपिक के लिए क्वालिफाई कर चुके हैं, उन्हें दोबारा क्वालीफाई नहीं करना होगा। यह खबर नीरज चोपड़ा, मैरीकॉम, बजरंग पूनिया जैसे भारतीय खिलाड़ियों के लिए राहत की बात है, जो टोक्यो ओलिंपिक का टिकट कटा चुके हैं।
आईओसी ने टोक्यो ओलिंपिक  को स्थगित करके अगले साल 2021 में कराने का फैसला किया था। इन खेलों में 11 हजार खिलाड़ियों को हिस्सा लेना था जिसमें 57 प्रतिशत खिलाड़ी क्वालिफाई कर चुके हैं। आईओसी ने गुरुवार को 32 अंतरराष्ट्रीय खेल फेडरेशन के साथ बैठक के बाद यह फैसला किया। आईओसी अध्यक्ष थॉमस बाक ने कहा कि बैठक में इस बात पर चर्चा की गई कि साल 2021 में होने ओलिंपिक के लिए कब और कैसे क्वालिफाइंग टूर्नामेंट रखे जाएंगे। टूर्नामेंट के आयोजन के लिए ओलिंपिक से पहले लगभग तीन महीने का समय चाहिए। हालांकि उन्होंने साफ किया कि जो खिलाड़ी क्वालिफाई कर चुके हैं, उनको दोबारा ऐसा करने की जरूरत नहीं होगी। वहीं जिन देशों ने ओलिंपिक कोटा हासिल किया है, उन्हें भी फिर से ऐसा करने की जरूरत नहीं होगी।
जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने अंतरराष्ट्रीय ओलिंपिक समिति (आईओसी) के अध्यक्ष थॉमस बाक के साथ बातचीत में टोक्यो ओलिंपिक खेलों को एक साल के लिए स्थगित करने का निर्णय लिया था। आबे ने आईओसी अध्यक्ष थॉमस बाक से बात करने के बाद कहा था कि मैंने खेलों को एक साल के लिए स्थगित करने की पेशकश की और अध्यक्ष बाक ने इस पर शत प्रतिशत सहमति जताई। बाक ने खेलों के फिर से आयोजन को लेकर कहा कि अभी ओलिंपिक खेलों की तारीखों को लेकर स्थिति साफ नहीं है, लेकिन यह तय है कि यह अगले साल गर्मियों से पहले नहीं होंगे।