नई दिल्‍ली । तीन दशक के बाद चीन ने भारत से चावल की खरीद की है। लद्दाख गतिरोध के बाद ये पहला मौका है जब चीन की तरफ से ये कदम उठाया गया है। भारत जहां दुनिया में चावलों का सबसे बड़ा एक्‍सपोर्टर है वहीं चीन सबसे बड़ा इंपोर्टर है। चीन हर वर्ष भारत से करीब 40 लाख टन चावल खरीदता है। बीच में उसने भारत के चावलों की गुणवत्‍ता का मसला उठाकर चावल खरीद से मुंह फेर लिया था। राइस एक्‍सपोर्टर एसोसिएशन को उम्‍मीद है कि भारत के चावल की गुणवत्‍ता को देखते हुए आने वाले वर्ष में चीन और अधिक खरीद करेगा। एसोसिएशन के मुताबिक दिसंबर से फरवरी के दौरान इंडियन एक्‍सपोर्टर्स को एक लाख टन ब्रोकन राइस भेजने का ऑर्डर मिला है।
 चीन की तरफ से आई ये खबर इस लिहाज से भी काफी अच्‍छी है क्‍योंकि हाल के कुछ माह के दौरान भारत ने चीन के कई एप्‍स पर प्रतिबंध लगाया है। इसके अलावा भी चीन भारत की तरफ से और अमेरिका की तरफ से लगाई कई तरह की बंदिशों से जूझ रहा है। लद्दाख गतिरोध के बाद से कारोबारियों ने भी बड़ी संख्‍या में चीन के उत्‍पादों को बेचने और खरीदने से इनकार किया है। वहीं कई कंपनियों ने भी ताजा अंतरराष्‍ट्रीय गतिरोध के बाद चीन से बाहर का रुख किया है। इन सभी कारणों की वजह चीन को जबरदस्‍त झटका लगा है। गौरतलब है कि भारत और चीन के सैनिकों के बीच जून में हिंसक झड़प हुई थी। इस झड़प में भारत के 20 जवान शहीद हो गए थे। वहीं चीन के 40 जवान मारे गए थे। इसके बाद से सीमा पर लगातार गतिरोध बना हुआ है। भारत की तरफ से चीन का सामना करने और उसको किसी भी विपरीत परिस्थिति में माकूल जवाब देने की तैयारी भी की गई है।