सिंदूर को हिंदू सनातन परम्परा में बहुत महत्व दिया जाता है। इसे सुहाग का चिह्न् माना जाता है। पूजन में भी इसका प्रयोग होता है। तंत्र परम्परा में भी इसे बहुत महत्व दिया गया है। इस लेख में ऐसे उपाय बताने जा रहे है, जिसका प्रयोग करके आप भगवती दुर्गा व श्री राम भक्त हनमान जी की असीम कृपा दृष्टि प्राप्त कर सकते हैं।

सिंदूर भगवती दुर्गा, पार्वती माता, सीता माता और राधा माता को अर्पित करने से वह शीघ्र ही प्रसन्न हो जाती है। हनुमान जी और गणेश जी को भी सिंदूर अर्पित करने का विधान है। सिदूर दो तरह के होते हैं। एक तो लाल रंग का होगा है तो दूसरा पीले या नारंगी रंग का होता है। महिलाएं अक्सर लाल सिदूर ही प्रयोग करती हैं, जबकि पूजन - विधान में पीले सिदूर को विशेष महत्व प्राप्त है।
साधक को इस बात का विशेष ध्यान रखना चाहिए कि वह जो सिंदूर प्रयोग में ला रहा है, वह असली होना चाहिए। नकली सिंदूर का प्रयोग प्रतिकूल प्रभाव डाल सकता है। असली सिंदूर भारी होता है, जबकि नकली सिंदूर तुलनाकृत रूप से हल्का रहता है। आयुर्वेद में सिंदूर के शोधन का विधान है, शोधित सिंदूर रोगों में भी प्रभावी रहता है।

देवी की कृपा प्राप्त करने का तांत्रिक उपाय

किसी भी देवी जैसे दुर्गा, पार्वती, लक्ष्मी, सीता, राधा, सरस्वती आदि की पूजा करते समय उनको सिदूर अवश्य अर्पित करना चाहिये। इससे देवी अपने भक्त पर प्रसन्न होती हैं।


 
ध्यान रहे कि देवी प्रतिमा पर श्वेत चन्दन का लेप वर्जित है, उन्हें केवल सिदूर ही चढ़ाना चाहिये। कहीं - कहीं प्रयोग भेद से दुर्गाजी तथा उनके प्रतिरूपों पर लाल चन्दन का लेप अर्पित करने का विधान है, लेकिन कुछ विद्बानों का यह भी कहना है कि माँ काली की प्रतिमा या चित्र पर सिन्दूर नहीं चढ़ाना चाहिये। सौभाग्य प्राप्त करने तांत्रिक उपाय हम आपको बताते हैं। माता पार्वती की प्रतिमा पर चढ़ाये गये सिदूर को धारण करने वाली महिलायें सौभाग्यवान होती हैं।

हाथाजोड़ी की पूजा में तांत्रिक विधान

हाथाजोड़ी पर सिदूर चढ़ाकर पूजा करने से वह समृद्धि और सम्मोहन प्रदान करती है।

सियारसिगी की पूजा में तांत्रिक विधान

सियारसिगी पर चढ़ाया गया सिदूर भी वशीकरण और सम्मोहन का प्रभाव उत्पन्न करता है।

हनुमान जी को प्रसन्न करने का तांत्रिक प्रयोग

अगर आप मंगल कार्यों को सफल करना चाहते हैं तो हम आपको अत्यन्त प्रभावी उपाय बताने जा रहे हैं, यह उपाय अपना कर आप भगवान श्री राम भक्त हनुमान की कृपा प्राप्त कर सकते हैं, वह भी सहजता से।

मंगलवार के दिन आप स्नान आदि कर लें। फिर पवित्र मन से किसी मन्दिर में या अपने घर में हनुमान जी की प्रतिमा के समक्ष जायें। तत्पश्चात सिदूर को शुद्ध देशी घी में मिलाकर उस प्रतिमा पर चढ़ायें।

तत्पश्चात हनुमानजी को प्रणाम करें। इससे हनुमान जी उस भक्त पर अत्यन्त प्रसन्न होते हैं और मांगलिक कार्यों में पूरी सफलता प्रदान करते हैं।

तत्पश्चात हनुमान जी की मूर्ति पर चढ़ाया हुआ सिंदूर लेकर उसे अपने माथे पर टीके की तरह लगाने से ओज बढ़ता है और व्यक्ति के तेज में भी वृद्धि होती है। यह उपाय अत्यन्त प्रभावी माना जाता है। अगर आप सफल होना चाहते हैं तो पूर्ण श्रद्धाभाव से बिना किसी संशय के यह अचूक उपाय अपनाएं और सफलता प्राप्त करें।