मॉस्को  । कोरोना की पहली वैक्सीन को 10 अगस्त तक बाजार में लाने का दावा करने वाले रूस ने कहा कि वह सितंबर और अक्तूबर में दो और कोरोना वैक्सीन के उत्पादन पर काम शुरू करने की योजना बना रहा है। रूस ने कहा कि वह पश्चिमी देशों से पहले फार्मूला विकसित करने के लिए काफी रिसर्च कर रहा है। राष्ट्रपति पुतिन की अध्यक्षता में हुई एक बैठक में उप प्रधानमंत्री तात्याना गोलिकोवा ने कोरोना की दो और वैक्सीन बनाने के लिए समझौता किया। मास्को और साइबेरिया के द्वारा संयुक्त रूप से यह वैक्सीन विकसित की जाएगी। पहली वैक्सीन का उत्पादन सितंबर में शुरू करने की योजना है और इसे मास्को स्थित गामालेया संस्थान और रक्षा मंत्रालय द्वारा परीक्षण किया जाएगा। वहीं दूसरी वैक्सीन का उत्पादन अक्तूबर में साइबेरिया स्थित वेकेटर स्टेट प्रयोगशाला द्वारा विकसित की जाएगी। रूस संक्रमितों के मामले में पूरी दुनिया में चौथे स्थान पर है, लेकिन अपनी रिसर्च के बदौलत यह वैक्सीन उत्पादन करने वाला पहला देश बनने की उम्मीद कर रहा है। हालांकि पश्चिमी देशों के वैज्ञानिकों का मानना है कि रूस इतनी जल्दबाजी में वैक्सीन लाने की सोच तो जरूर रहा है लेकिन इसमें कई खामियां भी हो सकती हैं।