नर्मदा | प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने रविवार को देश के विभिन्न शहरों को केवडिया स्थित स्टैच्यू ऑफ यूनिटी से जोड़ती 8 ट्रेनों की शुरुआत कराई थी| पहले दिन स्टैच्यू ऑफ यूनिटी पहुंची इन ट्रेनों में यात्रियों की संख्या सुनकर आपको झटका लगेगा| 7 ट्रेनों के जरिए पहले दिन केवल 90 यात्री ही केवडिया पहुंचे| हांलाकि केवडिया से कोई यात्री ट्रेन में नहीं गया| बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 17 जनवरी वीडियो कॉन्फ्रेंन्सिंग के जरिए  गुजरात के केवड़िया के लिए आठ ट्रेनों को हरी झंडी दिखाई थी| दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा ‘‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी'' वाला केवड़िया अब रेल कनेक्टिविटी से जुड़ गया है| मूर्ति देखने के लिए देश के विभिन्न भागों से लोगों की आवाजाही सुगम बनाने के मकसद से ही इन ट्रेनों की शुरुआत की गई है| ये ट्रेनें गुजरात के केवड़िया को दूसरे राज्यों के बड़े शहरों से जोड़ेंगी| जिन शहरों से रेल कनेक्टिविटी की शुरुआत की गई है, उनमें वाराणसी, दादर, अहमदाबाद, हजरत निजामुद्दीन (दिल्ली), रीवा, चेन्नई और प्रतापनगर शामिल है| पहले दिन इन ट्रेनों के जरिए केवल 90 यात्री केवडिया पहुंचे| जिसमें वाराणसी-केवडिया के बीच चलनेवाली महामना एक्सप्रेस में 24, दादर-केवडिया एक्सप्रेस में 14, अहमदाबाद-केवडिया (जन शताब्दी एक्सप्रेस) में 22, निजामुद्दीन-केवडिया (संपर्क क्रांति एक्सप्रेस) में 0, केवडिया-रीवा एक्सप्रेस में 12, चेन्नई-केवडिया एक्सप्रेस में 7, प्रतापनगर-केवडिया मेमू ट्रेन में 3 मुसाफिरों ने यात्रा की| माना जा रहा है कि सोमवार को स्टैच्यू ऑफ यूनिटी बंद रहता है, जिसकी वजह से यात्री नहीं आए| हांलाकि आगामी दिनों में यात्री आएंगे या नहीं, इसे लेकर चर्चा तेज हो गई है| यदि यात्रियों की संख्या नहीं बढ़ी तो रेलवे को नुकसान होने की पूरी संभावना है|