मुरादाबाद । समाजवादी पार्टी के नेता अखिलेश यादव  कहा कि वह तृणमूल कांग्रेस प्रमुख और बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के नेतृत्व वाले वैकल्पिक राजनीतिक मोर्चे में शामिल होने के लिए तैयार हो सकते हैं। अखिलेश यादव इन दिनों 2022 के यूपी विधानसभा चुनाव में भाजपा को चुनौती देने के लिए एक मंच बनाने में व्यस्त हैं। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में सत्तारूढ़ पार्टी का सफाया हो जाएगा, जैसे कि बंगाल के चुनावों में ममता बनर्जी ने उनका सफाया कर दिया था। अखिलेश यादव ने झांसी में संवाददाताओं से कहा, "मैं उनका स्वागत करता हूं। जिस तरह से उन्होंने बंगाल में भाजपा का सफाया कर दिया,  उत्तर प्रदेश के लोग भाजपा का सफाया कर देंगे। अखिलेश ने कहा, "जब समय सही होगा हम इसके बारे में बात करेंगे। प्रियंका गांधी वाड्रा पर उनके कटाक्ष के लिए पलटवार करते हुए कहा अखिलेश यादव ने कहा, जनता उन्हें मना कर देगी। आगामी चुनाव में उन्हें जीरो सीटें मिलेंगी। आपको बता दें कि प्रियंका ने हाल ही में कहा था कि यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री ने भी कांग्रेस को बट्टा लगाया है। गुरुवार को, पश्चिमी यूपी के मुरादाबाद में एक रैली में, प्रियंका गांधी ने विरोध प्रदर्शन के दौरान अखिलेश यादव की लखीमपुर से अनुपस्थिति पर सवाल उठाया था। अखिलेश यादव ने झांसी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा उद्घाटन किए गए पूर्वांचल एक्सप्रेसवे को लेकर भी भाजपा पर निशाना साधा। उन्होंने दावा किया कि भाजपा उनकी पार्टी द्वारा शुरू की गई परियोजनाओं का श्रेय ले रही है। उन्होंने कहा, "अगर समाजवादी पार्टी 22 महीने में एक्सप्रेसवे बना सकती है तो बीजेपी को उसी काम को करने में 4.5 साल क्यों लगे? ऐसा इसलिए है क्योंकि वे यूपी में लोगों के कल्याण के लिए काम नहीं करना चाहते हैं। अखिलेश यादव यूपी चुनाव से पहले इन दिनों एक गठबंधन बनाने की कोशिश में हैं, जो बीजेपी को टक्कर दे सके। उनकी नजर राज्य के पूर्वी हिस्से में क्षेत्रीय दलों के वर्गीकरण और पश्चिम में किसानों के वोटों पर है। ममता बनर्जी बंगाल में भाजपा को हराने के बाद से तेजी से अपनी पार्टी के विस्तार में जुटी हैं। इस क्रम में कई कांग्रेसी नेता टीएमसी में शामिल हुए हैं। हाल ही में उन्होंने मुंबई में राकांपा प्रमुख शरद पवार और महाराष्ट्र के मंत्री आदित्य ठाकरे से मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने यूपीए के अस्तित्व को खारिज कर दिया। इससे भी बुरी बात यह है कि पिछले महीने दिल्ली में ममता ने इस विचार का उपहास उड़ाया कि उन्हें कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मिलना है।