रीवा। माल एवं सेवाकर लागू होने के बाद से बोगस बिलों के माध्यम से करोड़ों का कारोबार किया और इसके बावजूद फर्मों ने टैक्स अदा नहीं किया है। इसी सिलसिले में शहर के अर्जुन नगर में कबाड़ का कारोबार करने वाले बालमुकुंद साहू के मकान और गोदाम में कार्रवाई की गई। जांच पूरी होने उपरांत 1 करोड़ 20 लाख रुपए की टैक्स कर चोरी मिली है। इस दौरान व्यवसायी ने स्वीकार किया है उसने व्यवसाय नहीं कर सिर्फ बिल उपलब्ध कराए है। इस पर अब टैक्स वसूलने की कार्रवाई एंटीएवीजन ने मुरैना की फर्म मॉ अम्बा शक्ति से प्रांरभ कर दी है।
बताया जा रहा है कि बोगस बिल में करोड़ों का व्यवसाय करने पर शहर के बरा मोहल्ले में स्थित पाल पैलेस के पास गोदाम में एक टीम पहुंची और दूसरी टीम अर्जुन नगर में चौरसिया नर्सिंगहोम के नजदीक दुकान में 30 सितंबर को छापा मारा था। छापेमार कार्रवाई के जो अभिलेख मिले हैं उसमें उत्तर प्रदेश के अलग-अलग शहरों से इसने कबाड़ खरीदने की जानकारी दी है। साथ ही उनकी बिक्री मुरैना में मां शक्ति को बताया है। इसके बावजूद न तो मां अम्बा शक्ति और न ही कबाड़ व्यापारी ने टैक्स अदा किया। इतना ही नहीं जबकि मौके पर उस तरह की सामग्री नहीं पाई गई, जिस तरह का कारोबार बताया गया है। तीन अक्टूबर तक तक जांच के बाद १.२० करोड़ टैक्स का दायित्व मिला है।

जमा किया था 11 लाख का चेक

जांच में जब टैक्स चोरी पकड़ी गई तो कबाड़ कारोबारी बालमुकुंद साहू ने 11 लाख रुपए का चेक टीम को दिया था। इसके बाद जांच पूरी नहीं होने पर टीम अपने साथ सभी अभिलेख जब्त कर सतना एंटीएवीजन कार्यालय ले गई है। वहीं जांच पूरी होने के बाद व्यापारी के बयान दर्ज कर टैक्स वसूली की कार्रवाई चल रही है।

एक और के यहां हुई थी कार्रवाई

कबाड़ का कारोबार करने वालों के यहां करोड़ों रुपए की टैक्स चोरी इसके पहले भी पकड़ी जा चुकी है। राज्यकर की टीम ने पडऱा में इसके पहले अराफत ट्रेडर्स कबाड़ कारोबारी के यहां छापामार कार्रवाई की थी। जिसमें करीब ढाई करोड़ रुपए की टैक्स चोरी पकड़ी गई। इसमें उन व्यापारियों पर भी कार्रवाई की जा रही है, जिनके यहां से वह सामग्री खरीदने और बेचने की जानकारी दे रहा था।
 

न्यूज़ सोर्स : Good Morning Rewa