रीवा। कालेजों में प्रवेश पाने के लिए छात्रों की बड़ी संख्या में भीड़ उमड़ पड़ी। पहले आओ-पहले पाओ की तर्ज पर प्रवेश दिया जाना है, इसलिए सैकड़ों की संख्या में कालेजों के सामने छात्र जुटे थे। शहर के माडल साइंस कालेज में सुबह से ही भीड़ जुटने लगी थी, एक ही गेट था और सभी कक्षाओं के लिए छात्रों की लाइन लगी थी।

इस बीच भीतर घुसने के लिए एक साथ कई छात्र पहुंचे तो धक्का-मुक्की शुरू होने लगी। छात्रों की भीड़ उग्र होने लगी तो पुलिस ने बल प्रयोग किया। कई छात्रों पर लाठियां भांजी गई, जिससे छात्रों को चोंट भी पहुंची है। पुलिस के बल प्रयोग किए जाने के बाद छात्रों ने और हंगामा मचा दिया। कलेक्टर ने अधिकारियों को मौके पर भेजा, जिन्होंने तनाव की रिपोर्ट दी तो प्रवेश प्रक्रिया रोक देने का निर्देश कलेक्टर की ओर से दिया गया। जिससे मॉडल साइंस कालेज में प्रवेश प्रक्रिया को रोक दिया गया।
कालेज लेवल काउंसिलिंग के द्वितीय चरण में सरकार ने कहा है कि अब मैरिट नहीं बल्कि पहले आओ-पहले पाओ की तर्ज पर एडमिशन दिया जाए। इसी वजह से करीब एक हजार की संख्या में संभाग भर से छात्र एवं उनके अभिभावक पहुंचे थे। कालेज में एक ही द्वार खोला गया, जहां पर स्नातक एवं स्नातकोत्तर कक्षाओं के लिए एक ही लाइन में लोग थे, जिससे भीड़ अनियंत्रित होने लगी। पुलिस ने पहले छात्रों को धक्का दिया बाद में लाठियां बरसाना शुरू कर दिया। परिसर में भगदड़ मच गई, कई छात्रों को चोटें पहुंची हैं।

बिना आदेश पुलिस ने चलाईं लाठियाँ, छात्र जख्मी

लाइन में लगे छात्रों पर बल प्रयोग कर पुलिस ने दौड़ाया तो भगदड़ मच गई। पुलिसकर्मियों ने लाठियां भी भांजी। कई छात्रों पर जमकर लाठियां बरसाई गई हैं। जिससे करीब आधा दर्जन से अधिक छात्र जख्मी हो गए हैं। पुलिस को छात्रों पर लाठी चलाने का आदेश किसने दिया, इसका जवाब पुलिस के अधिकारी भी नहीं दे पा रहे हैं। लाठी चार्ज में निकिता मिश्रा एवं दिनेश शुक्ला को गंभीर चोंट पहुंची है। इन्हें उपचार के लिए संजयगांधी अस्पताल भेजा गया। वहीं संदीप पटेल, शबनम, संतोष मिश्रा, दिलीप कुशवाहा सहित अन्य कई छात्र चोटिल हुए हैं।

सूचना पर एडीएम पहुंची

माडल साइंस कालेज में छात्रों पर बल प्रयोग किए जाने के बाद छात्र संगठनों ने नारेबाजी शुरू कर दी। इसकी सूचना कलेक्टर को मिली तो उन्होंने एडीएम इला तिवारी, एसडीएम फरहीन खान सहित अन्य अधिकारी पहुंचे। कुछ छात्र इस बात पर अड़े थे कि कालेज प्रबंधन मनमानी कर रहा है, अपने चहेतों को प्रवेश देने का प्रयास किया जा रहा है। एडीएम ने कलेक्टर को पूरे मामले की रिपोर्ट दी, कलेक्टर के निर्देश पर प्रवेश की प्रक्रिया तत्काल प्रभाव से रोक दी गई है।

कल शुरू होगी प्रवेश प्रक्रिया

बवाल होने की स्थिति पर कलेक्टर द्वारा प्रवेश प्रक्रिया रोकवाए जाने के बाद अब ६ सितंबर को उच्च शिक्षा विभाग पोर्टल खोलेगा। जिसमें सीटें भी पता चलेंगी कि कितनी संख्या में शेष रह गई हैं। साथ ही १५ प्रतिशत सीट प्राचार्य द्वारा बढ़ाई गई है, जो छह सितंबर को ही प्रदर्शित होगी। सुबह साढ़े दस बजे से प्रवेश प्रक्रिया प्रारंभ होगी। अन्य कालेजों में भी बढ़ाई गई सीटें अभी पोर्टल पर प्रदर्शित नहीं हो रही हैं, जिससे उनमें प्रवेश छात्रों को नहीं मिल पा रहा है।

कालेज मांगा पुलिस बल

लगातार छात्रों द्वारा प्रवेश को लेकर विरोध प्रदर्शन किए जाने की वजह से माडल साइंस कालेज के प्राचार्य ने कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक को पत्र लिखकर कहा है कि सुरक्षा व्यवस्था बनाने के लिए पुलिस बल मुहैया कराया जाए। इसलिए शुक्रवार को सुबह से ही कालेज में पुलिस मौजूद रहेगी और छात्रों को कतारबद्ध तरीके से खड़ा किया जाएगा, ताकि किसी तरह का बवाल नहीं हो।

लाठी चार्ज को बताया निंदनीय

प्रवेश के लिए पहुंचे छात्रों पर लाठी चार्ज किए जाने की घटना की छात्र संगठनों ने निंदा की है। एनएसयूआई के प्रदेश सचिव मंजुल त्रिपाठी ने कहा कि सरकार अधिक से अधिक छात्रों को प्रवेश देने के लिए व्यवस्था बना रही है। कालेज प्रबंधन की लापरवाही के चलते इस तरह की स्थितियां निर्मित हो रही हैं। वहीं संभागीय समन्वयक अभिषेक तिवारी ने भी निंदा की है। भाजयुमो के जिला उपाध्यक्ष अमित तिवारी, प्रकाश सिंह, अतुल पाण्डेय, अंकित तिवारी सहित अन्य ने कहा है कि छात्रों को प्रवेश से रोकने के लिए इस तरह की व्यवस्थाएं बनाई जा रही हैं। छात्र प्रवेश के लिए आए थे लेकिन पुलिस ने बिना किसी कारण के उन पर लाठियां चलाईं।

न्यूज़ सोर्स : Good Morning Rewa