रीवा। फोरलेन सड़क से लगी रेलवे की करोड़ों रुपए की जमीन में अतिक्रमण जारी है। आधा दर्जन से अधिक दुकानें इस खाली पड़ी जमीन में जमा ली गई है। इसके बावजूद जिम्मेदार विभाग बेखबर है। इसका फायदा उठाते हुए अब बॉस-बल्ली लगाकर जमीन कब्जा करने का प्रयास किया जा रहा है। माल गोदाम के बगल से खाली पड़ी जमीन में लोगों ने दुकानें बना ली है।
बताया जा रहा है कि रेलवे स्टेशन के आसपास काफी जमीन खाली पड़ी हुई है। इसमें दिनों-दिन कब्जा होता जा रहा है। इसके पहले एक मिशनरी स्कूल भी रेलवे की जमीन का बड़ा हिस्सा पर कब्जा जमा चुका है। इसके बाद अब सड़क की तरफ खाली पड़ी जमीन में गुमटी लगाकर लोग कब्जा कर रहे हैं। फोरलेन सड़क से लगी इस जमीन की कीमत करोंड़ो रुपए में है। जबकि रेलवे की सम्पत्ति सुरक्षा के लिए रेलवे का अलग फोर्स रीवा में तैनात है। इसके बावजूद भी कोई कार्रवाई नहीं हो पा रही है। पांच महीने पहले रेलवे मोड़ में लगी अवैध दुकानों को हटाने के लिए डीआएम को हस्ताक्षेप करना पड़ा था। डीआरएम के निर्देश बाद रेलवे दुकानों का हटाया गया था, लेकिन उसके आगे खाली पड़ी जमीन में हो रहे अतिक्रमण हो लेकर विभाग के अधिकारी बेफ्रिक हैं।

व्यवसायिक उपयोग के लिए देने की तैयारी

रेलवे स्टेशन में वर्तमान में काफी जमीन रिक्त पड़ी है। शहर के मध्य इस जमीन को रेलवे व्यवसायिक उपयोग के लिए देने की कार्य योजना बना रहा है। रेलवे इस खाली जमीन में अस्थाई निर्माण, जैसे बारात घर या फिर आयोजनों के लिए लोगों को किराए पर उपलब्ध कराएगा। इसके लिए रेलवे प्रस्ताव तैयार कर रहा है।

पहले भी होता रहा है अतिक्रमण

बताया जा रहा है रेलवे की जमीन में इसके पहले भी कब्जा हो चुका है जिसे रेलवे हटाने में विफल रहा है। वहीं रेलवे की जमीन में स्कूल प्रबंधन ने पहले सड़क बनाई अब धीरे- धीरे लगे वृक्षों को कटाने के बाद अतिक्रमण बढ़ता जा रहा है। इस संबंध स्थानीय लोगों ने तत्कालीन रेलवे प्रबंधक से शिकायत भी की थी, लेकिन कार्रवाई नहीं हो पाई।

न्यूज़ सोर्स : Good Morning Rewa