अलवर ।  जिले के थानागाजी गैंगरेप पीडि़त का परिवार लगातार हो रही बदनामी से परेशान हो चला है और अब यहां से विस्थापन होना चाहता है। पीडि़त परिवार के लोगो ने सरकार से अपील की है कि पीडि़त दंपति को सरकारी नौकरी दें और उनको यहां से ऐसी जगह विस्थापित करवाया जाए जहां उनको कोई नहीं पहचान सके, जिससे वे अपना जीवन को शांति से जी सकें।
पीडि़त परिवार ने थानागाजी पुलिस की कार्यशैली पर सवाल खड़े किए है। उन्होंने बताया कि पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज करने के बाद पीडि़ता के पति को रात पर जबरन थाने में बैठाए रखा और आरोपियों की गिरफ्तारी के कोई प्रयास नहीं किए। यही नहीं पुलिस आरोपियों के ठिकाने पर बैठ कर पीडि़त पक्ष को भी वहीं बुलाती थी। साथ ही आरोप लगाते हुए कहा कि पुलिस आरोपियों से मिली हुई थी इसलिए कोई कार्रवाई नहीं हुई।
वहीं दूसरी ओर पीडि़ता ने एक सनसनीखेज खुलासा किया है। गैंगरेप की घटना के बाद दरिंदों के हौसले इस कदर बढ़ गए थे कि आरोपियों ने 28 अप्रैल को पीडि़ता के पति को फोन कर उसकी पत्नी को दोबारा उनके पास लाने के लिए दबाव बनाया था, इसके साथ ही 10 हजार रुपए की मांग भी की थी और रकम न देने पर वीडियो वायरल करने की धमकी भी दी थी।
वहीं पीडि़ता की सास ने कहा की उन्हें तब शांति मिलेगी जब आरोपियों को फांसी मिलेगी, तब ही उन्हें असली न्याय मिल पाएगा। इस मामले में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक संजय लाल मीणा का कहना है कि इस पूरे प्रकरण में थाना अधिकारी के द्वारा जो लापरवाही बरती गई है वह बर्दाश्त करने योग्य नहीं है और मामले की उच्चस्तरीय जांच चल रही है जो भी दोषी होगा उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।