रायपुर। छत्तीसगढ़ की भूपेश बघेल सरकार के दो साल पूरा करने पर कई कार्यक्रम आयोजित किए गए. कैबिनेट की बैठक के बाद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल अपने सभी मंत्रियों के साथ माता कौशल्या के मंदिर चंद्रखुरी पहुंचे थे. सीएम बघेल ने इस मौके पर कहा कि बीजेपी के राम जो भी हों, लेकिन कांग्रेस के राम वहीं हैं जो माता कौशल्या के बेटे राम हैं. मुख्यमंत्री ने भाजपा पर हमला बोलते हुए कहा कि कुछ लोग भगवान राम के नाम का उपयोग वैसे ही करते हैं जैसे कालनेमि ने किया था. उन्होंने कहा कि ऐसे लोग केवल स्वार्थवश राम का नाम लेते हैं, जबकि हम लोगों ने सदा से जन-जन में बसे राम को पूजा है.

सीएम बघेल ने आगे बोलते हुए कहा कि जब महात्मा गांधी को गोली मारी गई थी, तब भी गांधीजी के मुंह से राम का ही नाम निकला था. माता कौशल्या की जन्मस्थली चंद्रखुरी में आयोजित इस समारोह में तीन दिनों से जारी राम वन गमन पथ रथ यात्रा और बाइक रैली का समापन भी हुआ. मुख्यमंत्री ने कहा कि माता कौशल्या ने ही राम के चरित्र को गढ़ा था, जो चरित्र माता कौशल्या का था, वही छत्तीसगढ़िया लोगों का है. कुछ वर्षों पहले तक अन्य राज्यों के लोग छत्तीसगढ़ को या तो भिलाई के नाम से जानते थे या फिर नक्सल समस्या के कारण, लेकिन अब यह छत्तीसगढ़ अपनी सांस्कृतिक संपन्नता के कारण जाना जाता है.

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि गौ-सेवा के क्षेत्र में हमारी गोधन न्याय योजना से बढ़िया व्यवस्था और कहीं नहीं है. छत्तीसगढ़ गो-सेवकों का प्रदेश है. यहां के किसानों और मजदूरों ने देश को अपनी ताकत का अहसास करा दिया है. जब पूरे देश में मंदी छाई हुई है, तब यहां मंदी का कोई असर नहीं है. नाराज किसान देश की राजधानी को घेर कर बैठे हैं, लेकिन छत्तीसगढ़ में खुशहाली है. यदि केंद्र सरकार छत्तीसगढ़ की नीति पर काम करे तो किसानों का आंदोलन कल वापस हो जाए.

न्यूज़ सोर्स : www.goodmorningnation.com