रायपुर। भारत सरकार द्वारा जारी ओडीएफ प्लस प्लस के नतीजों में छत्तीसगढ़ के तमाम नगरीय निकाय सफल हुए है. इसके साथ ही प्रदेश इस उपाधि को पाने वाला देश में प्रथम और एकमात्र राज्य बना है.

भारत सरकार द्वारा स्वतंत्र एजेंसी के माध्यम से ओडीएफ का सर्वे कराया जाता है. इसमें राज्य के नगरीय निकाय तीन से चार बार ओडीएफ और ओडीएफ प्लस परीक्षण में सफल हुए है. ओडीएफ के मुकाबले ओडीएफ प्लस प्लस परीक्षण में खुले में शौच नहीं जाने, सार्वजनिक सह सामुदायिक शौचालय में सुविधाओं की उपलब्धता के साथ-साथ सेप्टिक टैंक से निकलने वाले फिकल स्लज के सुरक्षित वैज्ञानिक निपटान की स्थिति का निरीक्षण किया जाता है.

नगरीय निकायों में सार्वजनिक एवं सामुदायिक शौचालय की स्थिति में सुधार हेतु राज्य शासन द्वारा वित्त पोषित स्वच्छता श्रृंगार एवं सुविधा-24 योजना का इस सफलता में महत्वपूर्ण योगदान है. साथ ही आज शहरों की गारबेज फ्री स्टॉर रेटिंग प्रोटोकॉल के नतीजे नेशनल मीडिया सेंटर से ऑनलाईन प्रेस कांफ्रेंस के माध्यम से जारी किए गए हैं, जिसमें स्टॉर रेटिंग में छत्तीसगढ़ देश के प्रथम दो राज्यों में शामिल हुआ हैं.

राज्य के अंबिकापुर शहर को 5 स्टॉर, पाटन, राजनांदगांव, बिलासपुर, भिलाई, रायगढ़, जशपुर, बारसूर और सारागांव शहरों को 3 स्टॉर रेटिंग प्राप्त हुई. इसके अलावा बरमकेला, बेरला, चिखलाकसा, कटघोरा, पखांजूर आदि शहरों को 1 स्टॉर रेटिंग प्राप्त हुई है. राज्य में लागू मिशन क्लीन सिटी योजनांतर्गत शहरों को कचरामुक्त करने के लिए निरंतर कार्य किए जा रहे है. केन्द्रीय मंत्रालय के अधिकारियों द्वारा स्वच्छ सर्वेक्षण 2020 के नतीजे लॉकडाउन उपरांत घोषित करने की जानकारी दी गई है.

ओडीएफ प्लस प्लस एवं स्टार रेटिंग की सफलता पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और विभागीय मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया ने विभागीय सचिव अलरमेलमंगई डी. के साथ समस्त नगरीय निकायों के महापौर, अध्यक्ष और पार्षदों को बधाई दी है. इसके साथ नगरीय निकायों के अधिकारी/कर्मचारियों, स्वच्छता दीदीयों/कर्मियों को इस सफलता पर शुभकामनाएं देते हुए आगे भी इसी प्रकार के प्रयास जारी रखने का आव्हान किया.

न्यूज़ सोर्स : www.goodmorningnation.com