रायपुर। बलौदाबाजार जिला कोविड हॉस्पिटल में मंगलवार को किलकारी गूंज उठी, जब क्वारेंटाइन में रह रही एक महिला ने स्वस्थ बच्ची को जन्म दिया. जिला कोविड हॉस्पिटल में पहली बच्ची का जन्म हुआ है. इससे जिला हॉस्पिटल एवं स्वास्थ्य विभाग के सभी कमर्चारी में खुशी का माहौल है.

पलारी विकासखण्ड अंतर्गत ग्राम बनगबौद निवासी भुनेश्वरी कुर्रे अपने लकेश्वर कुर्रे के साथ 12 मई को नागपुर, महाराष्ट्र से लौटी है. उन्होंने बताया कि लॉकडाउन के दौरान उन्हें बहुत सी समस्याओं का सामना करना पड़ा, जिसके कारण वे वापस अपने गांव वापस आना चाहते थे.

कुर्रे परिवार नागपुर में पाइप लाइन और नल फिट करने का काम करते हैं. परिवार नागपुर से राजनांदगांव होते हुए रायपुर तक ट्रक से आए, जहां से अपने गांव एक ऑटो के जरिए आए. जिला की सीमा पर स्थित खरतोरा नाका में स्वास्थ्य परीक्षण के बाद परिवार को गांव के ही प्राथमिक स्कूल में 14 दिनों के लिए क्वारेंटाइन किया गया. ग्राम पंचायत के माध्यम से परिवार को सूखा राशन भी दिया गया.
सोमवार को अचानक रात को महिला को प्रसव पीड़ा हुई, जिसके बाद परिवार और गांव वालों ने तत्काल 108 पर कॉल कर एम्बुलेंस बुलाई. 10 मिनट में ही एम्बुलेंस पहुंच गई, जहां से महिला को जिला कोविड हॉस्पिटल लाया गया. डॉक्टरों और नर्स की मदद से भुनेश्वरी ने एक स्वस्थ बच्चे को जन्म दिया है.

जिला हॉस्पिटल के सिविल सर्जन डॉ अभय सिंह परिहार ने बताया कि जच्चा एवं बच्चा दोनों स्वस्थ हैं. बच्चे का वजन भी करीब 2 किलो 8सौ ग्राम है. डॉ अभय ने बताया कि यह एमसीएच हॉस्पिटल जिसे वर्तमान में जिला कोविड हॉस्पिटल के रूप में परिवर्तन किया गया, यहां पर बच्ची का जन्म होना हॉस्पिटल के मूल उद्देश्यों को पूरा होना जैसा है. मां और उनके बच्ची को सभी जरूरी टीके भी लगा दिए गए हैं.

जिला कलेक्टर कार्तिकेया गोयल को इसकी जानकारी मिलने पर खुशी व्यक्त करते हुए जिला हॉस्पिटल एवं स्वास्थ्य विभाग की पूरी टीम के साथ महिला को भी बधाई दी. उन्होंने कहा कि कोविड हॉस्पिटल में एक स्वस्थ बच्चे का जन्म के लिए पूरी मेडिकल टीम बधाई की पात्र है. जच्चा एवं बच्चा दोनो स्वस्थ्य रहे इसका भी ध्यान रखें. उन्होंने साथ ही महिला को शासन की योजना का अधिक से अधिक लाभ मिले इसके लिए स्वास्थ्य विभाग को आवश्यक दिशा निर्देश दिया है.

न्यूज़ सोर्स : www.goodmorningnation.com